जानिए क्या है फेसबुक का ‘डाटा लीक’ मामला

0

आजकल फेसबुक यूज़र्स डाटा चुराना इतना आसान नहीं रहा क्यूंकि खुद फेसबुक हर एक दिन एक नया नियम लाती रहती है और अपने सिक्योरिटी सिस्टम को और भी स्ट्रांग करती है..पर बॉस इस साइबर दुनिया में कुछ ऐसे भी कलाकार है जो आप पर नजर बनाए रखते है …तो कुछ ऐसा ही 2016 में अमेरिका में हुआ राष्ट्रपति चुनाव क दौरान ‘कैम्ब्रिज ऐनलिटिकल नाम की कंपनी ने 5 करोड़ log का निजी डाटा चुरा लिए था..और कैंब्रिज एनालिटिका के सीईओ अलेक्जेंडर निक्स को सस्पेंड कर दिया गया है। इससे पहले फेसबुक ने भी ट्रंप को राष्ट्रपति चुनाव में जीत में कथित मदद करने के आरोप में ‘कैम्ब्रिज ऐनलिटिकल’ को निलंबित कर दिया था।

newyork टाइम्स की माने तोह ब्रिटैन क कुछ न्यूज़ चैनल पर ये खबर दिखाने पर कंपनी के सीईओ को ससपेंड कर दिए गया है अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान डोनाल्ड ट्रंप की मदद करने वाली एक कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका पर 5 करोड़ फेसबुक उपभोक्ताओं की निजी जानकारी चुराने का आरोप लगा है

इसी जानकारी को अमेरिका में हुए राष्ट्रपति चुनाव के दौरान इस्तेमाल किया गया था। मामले के सामने आते ही अमेरिका और यूरोपीय सांसदों ने फेसबुक इंक से जवाब मांगा और जुकरबर्ग को उनके सामने पेश होने के लिए कहा है। इसके चलते फेसबुक के शेयर 7% टूट गए। शेयर की कीमत घटने की वजह से फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्क को एक दिन में 6.06 अरब डॉलर (करीब 395 अरब रुपये) का झटका लगा है।

क्या है कैंब्रिज एनालिटिका

कैंब्रिज एनालिटिका एक निजी कंपनी है, जो डाटा माइनिंग और डाटा एनालिसिस का काम करती है। इसके सहारे ब्रिटेन के लंदन की ये कंपनी चुनावी रणनीति तैयार करने में राजनीतिक पार्टियों की मदद करती है। कंपनी से जुड़े एक कर्मचारी क्रिस्टोफर ने नैतिकता को आधार बनाते हुए ये जानकारी सार्वजनिक की थी कि उनकी फर्म ने चुनावों को प्रभावित करने और ट्रंप को फायदा पहुंचाने के लिए फेसबुक के उपभोक्ताओं के डाटा का इस्तेमाल किया था।

फेसबुक पर कम हो रहे है यूज़र्स

इस जानकारी का पता चलते ही फेसबुक को भारी नुक्सान का सामना करना पढ़ रहा है जैसा हमने बताया है के facebook को एक दिन में 6.06 अरब डॉलर (करीब 395 अरब रुपये) का झटका लगा है.. साथ ही में इनके यूज़र्स काम hone लगे है..

Share.

About Author

Leave A Reply