पेट्रोल और डीजल की कीमतों ने छुआ आसमान

0
नए वित्तीय वर्ष में पेट्रोल और डीजल की कीमतों ने नए मुकाम बनाए हैं। पेट्रोल 73.83 और डीजल 64.69 रुपये प्रति लीटर के साथ उच्च स्तर पर पहुंच गया है। कच्चे तेल की कीमतों में मजबूती के बीच ईंधन की कीमतों में वृद्धि हुई है। सितंबर, 2013 के बाद से पेट्रोल में मौजूदा वृद्धि 76 रुपए पर पहुंच गई है।
तेल मंत्रालय ने इस साल की शुरुआत में अंतरराष्ट्रीय तेल दरों में बढ़ोतरी के प्रभाव को कम करने के लिए पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती की मांग की थी, लेकिन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अपने बजट में इस मांग पर ध्यान नहीं दिया।
दक्षिण एशियाई देशों के बीच भारत में पेट्रोल और डीजल की सबसे ऊंची खुदरा कीमतें हैं क्योंकि करों का आधा हिस्सा पंप दरों में होता है।
इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन, इन तेल कंपनियों ने पिछले साल दरों में संशोधन करने का अभ्यास किया था।
पुराने रिपोर्ट्स के अनुसार नवंबर 2014 और जनवरी 2016 के बीच उत्पाद शुल्क को बढ़ा दिया गया था ताकि वैश्विक तेल की कीमतों में गिरावट आए। सरकार ने पिछले साल अक्टूबर में एक बार 2 रुपये प्रति लीटर तक कर में कटौती की थी।
ये पोस्ट हमारी साथी शिक्षा द्वारा लिखी गई है।
Share.

About Author

Leave A Reply