काशी विश्वनाथ मंदिर में पुलिसकर्मियों को पहनना होगा सिविल ड्रेस, जाने क्यों

0
उत्तर प्रदेश के वाराणसी में प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में तैनात पुलिस कर्मियों को भीड़ कंट्रोल करते वक़्त सिविल ड्रेस “धोती कुर्ता” पहनना होगा. ये नियम सोमवार से लागू हुआ.
यह कदम कई शिकायतों के बाद लिया गया है. जैसे कि गर्भगृह के अंदर खाकी में उपस्थिति पुलिस कर्मियों के कारण पूजा करने वालों को असहज महसूस होता है.
सूत्रों के अनुसार पता चला कि “यह निर्णय इसलिए लिया गया है ताकि मंदिर में पूजा बिना किसी अड़चन के पूरी हो और मंदिर के पुजारियों को पुलिसकर्मियों की उपस्थिति में असहज महसूस ना हो.”
लगभग तीन या चार पुलिस कर्मियों को इस स्थान पर तैनात किया जाता है क्योंकि हर दिन देश भर से भारी भीड़ यहां इक्कट्ठा होती है.
आमतौर पर कानून के अनुसार, पुलिस को डयूटी के वक़्त वर्दी में होना चाहिए. लेकिन कभी-कभी पुलिस कर्मियों को परिस्थितियों के अनुसार सिविल ड्रेस पहनने को कहा जाता है.
पुलिस इस दिशा-निर्देश के “व्यावहारिक” पहलू को ध्यान में रख रही है क्योंकि पूजा के दौरान दूध और अन्य वस्तुओं का इस्तेमाल किए जाने से मंदिर की भीड़भाड़ में पुलिस कर्मियों की वर्दी पर मिट्टी लग जाती है, जिससे कर्मियों को भी अक्सर मुश्किलें होती हैं.
पुलिसकर्मी किसी भी प्रकार के सिविल ड्रेस पहन सकते हैं, जो मंदिर की गरिमा बनाए रखे, जरूरी नहीं कि वो धोती कुर्ता ही हो, ये बातें आईजी ने कही
Share.

About Author

Leave A Reply