लड़ाकू विमान की खरीद से बढ़ेगी वायुसेना की ताकत

0
भारतीय वायुसेना इस समय लड़ाकू विमान की कमी से जूझ रही है। इसलिए जल्द ही वो 100 से अधिक विमान खरीद सकती है।
इन लड़ाकू विमानों की खरीद का मकसद वायुसेना की ताकत बढ़ाना और मेक इन इंडिया की शक्ति को बढ़ावा देना है। वायुसेना ने इस पहल की जानकारी  सरकार को दे दी है। वायुसेना ने सरकार से विदेशी कंपनियों से बात करने को कहा है कि वह भारत में विमानों के निर्माण पर काम शुरू कर दें।
सरकार के अनुसार, भारतीय वायुसेना को 2020 तक 32 लड़ाकू स्क्वाड्रॉन और 39 हेलिकॉप्टर की यूनिट मिल जाएगी।
खबरों के अनुसार वायुसेना इस प्लान पर काम कर रहा है, इसके तहत वह एक्सपो में लड़ाकू विमानों पर बोली लगाएगा। इस बोली में अमेरिका, स्वीडन, फ्रांस और यूरोप जैसे देश शामिल हो सकते हैं। बता दें कि एयरफोर्स की ओर से दो फ्रंट पर लड़ाई को लेकर तैयारी की जा रही है।
इससे पहले एयरफोर्स ने MiG-21, MiG-27 विमानो को बदलने का निर्णय किया था, जो जल्द ही रिटायर होने वाले हैं। 2019 की शुरुआत से ही वायुसेना को दो स्क्वाड्रॉन मिलने शुरू हो जाएंगे।
ये पोस्ट हमारी साथी शिक्षा द्वारा लिखी गई है।
Share.

About Author

Leave A Reply