सेना प्रमुख बिपिन रावत के बयान पर बदरूद्दीन अजमल का पलटवार, बोले- BJP से AIUDF आगे बढ़ रही है तो सेना प्रमुख को चिंता क्यों ?

0

सेना प्रमुख बिपिन रावत के उस बयान पर हंगामा तेज हो गया है जिसमें उन्होंने कहा था कि  जितनी तेजी से देश में बीजेपी का विस्तार नहीं हुआ उतनी तेजी से असम में बदरुद्दीन अजमल की पार्टी एआईयूडीएफ बढ़ी है. रावत इलाके में होने वाली बांग्लादेशी घुसपैठ और जनसांख्यिकी परिवर्तन को समझाने के लिए उदाहरण दे रहे थे. उन्होंने कहा कि घुसपैठ होने का एक बड़ा कारण जमीन पर कब्जा जमाना भी है.बस इसी बयान पर हंगामा तेज हो गया.

कांग्रेस ने जताया बयान पर ऐतराज

कांग्रेस नेता मीम अफजल ने आर्मी चीफ के इस बयान पर आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा कि आर्मी के अफसर को राजनीतिक बयानबाजी नहीं करनी चाहिए, जनरल रावत को ऐसी बयानबाजी से बचना चाहिए. वहीं, एनसीपी नेता माजिद मेनन ने कहा कि ये राजनीतिक मामला है इसपर नेताओं को ही बयानबाजी करनी चाहिए, आर्मी चीफ को ये सब शोभा नहीं देता है. बीजेपी नेता शायना एनसी ने कहा कि बांग्लादेशी घुसपैठ देश में बड़ा मुद्दा है, उसपर विदेश मंत्रालय, गृह मंत्रालय नज़र बनाए हुए है.

बदरूद्दीन अजमल का पलटवार

AIUDF प्रमुख बदरुद्दीन अजमल ने सेना प्रमुख के बयान पर पलटवार करते हुए कहा- पार्टी बढ़ रही है तो सेना प्रमुख को चिंता क्यों हो रही है?

अजमल ने कहा कि सेना प्रमुख बिपिन रावत ने एक राजनीतिक बयान दिया है, जो चौंकाने वाला है. सेना प्रमुख को चिंता क्यों है कि बीजेपी की तुलना में लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष मूल्यों पर आधारित एक राजनीतिक पार्टी तेजी से बढ़ रही है? उन्होंने कहा कि बड़ी राजनीतिक पार्टियों के गलत रवैए की वजह से AIUDF और AAP जैसी वैकल्पिक पार्टियां तेजी से आगे बढ़ी हैं.

 सेना प्रमुख के बयान पर AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल उठाए हैं. ओवैसी के अलावा कई राजनीतिक पार्टियों ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी है.ओवैसी ने ट्वीट किया कि आर्मी चीफ को राजनीतिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए, किसी राजनीतिक पार्टी के उदय पर बयान देना उनका काम नहीं है. लोकतंत्र और संविधान इस बात की इजाजत देता है कि सेना हमेशा एक निर्वाचित नेतृत्व के तहत काम करेगी.

Share.

About Author

Leave A Reply