आंध्र प्रदेश: भाजपा सांसद हरि बाबू ने राज्य अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा

0
वरिष्ठ भाजपा नेता और विशाखापटनम के एमपी के हरि बाबू ने राज्य इकाई अध्यक्ष पद से मंगलवार को इस्तीफा दे दिया। उन्होंने भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को अपना इस्तीफा भेज दिया है।खबरों के अनुसार आंध्र प्रदेश में अपनी पूरी ताकत लगा कर भाजपा सरकार बनाने की कोशिश कर रही है और साथ ही राज्य के लिए एक नई रणनीति भी तैयार कर ली है। एमएलसी सोमू वीरराजू, विधायक और पूर्व मंत्री पी मानिकला राव, यूपीए सरकार में पूर्व कांग्रेस नेता काना लक्ष्मीनारायण और पूर्व केंद्रीय मंत्री डी पुरंदरेसरी राज्य इकाई प्रमुख के पद पर अग्रसर हैं। लक्ष्मीनारायण और पुरंदरेश्वरी दोनों ने कांग्रेस को छोड़ा और 2014 में राज्य के विभाजन के मुद्दे पर बीजेपी में शामिल हो गए थे।
हालांकि, वीराराजू और राव – जो कपू समुदाय से जुड़े हैं – उनके पास एक मजबूत मौका है क्योंकि वे भाजपा के पुराने साथी हैं। सूत्रों की माने तो भाजपा, प्रदेश में अपने प्रमुख के रूप में कपू समुदाय के एक नेता की नियुक्ति के लिए उत्सुक है। इस बीच हरि बाबू को केंद्र में एक और महत्वपूर्ण पद दिया जा सकता है।टीडीपी ने एनडीए गठबंधन से अलग होने के साथ, भाजपा ने उन नेताओं का उपयोग करने का निर्णय लिया है जो कांग्रेस से अलग हुए हैं और 2014 में राज्य के विभाजन के बाद पार्टी में शामिल हो गए। राज्य में सत्ताधारी टीडीपी के खिलाफ आक्रामक योजना बनाई जा रही है।
भाजपा, जो टीडीपी के साथ गठबंधन में 2014 के चुनाव में लड़े, ने विधानसभा (4.13 प्रतिशत वोट) में 9 सीटों और संयुक्त लोकसभा आंध्र प्रदेश में तीन लोकसभा सीटें जीती थीं।
ये पोस्ट हमारी साथी शिक्षा द्वारा लिखी गई है।
Share.

About Author

Leave A Reply