TDP के अलग होने के बाद आज संसद में मोदी सरकार की अग्निपरीक्षा

0

नई दिल्लीः आज (सोमवार) लोकसभा में पहली बार मोदी सराकर की मुश्किलें बढ़ सकतीं हैं, क्योंकि, तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) वाईएसआर और कांग्रेस के साथ मिलकर सराकर के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव पेश करेंगी। आपको बता दें कि, आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा न देने की मांग न माने से नाराज़ चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी कोटे से केंद्र में दोनों मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया। जिसके बाद उनका काथ कई और पार्टीयों ने दिया जिसमें कांग्रेस भी शामिल है।

गौरतलब है कि, मौजूदा लोकसभा में कुल 539 सदस्य हैं। इस लिहाज से बहुमत का आंकड़ा 270 होता है। बीजेपी के अपने सदस्य 274 हैं। यानी वो अपने दम पर बहुमत पाने की हैसियत में है। हांलाकि, अगर बीजेपी के बाग़ी नेता त्रुघ्न सिन्हा, कीर्ति आजाद और श्यामाचरण गुप्ता पार्टी के खिलाफ़ जाते हैं तो सराकर के लिए मुश्किल खड़ी हो सकती है।

आपको बता दें कि, लोकसभा में अविश्वास के लिए कम से कम 50 सांसदों का समर्थन हासिल होना अनिवार्य है। ऐसे में टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस ने लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव लाने का नोटिस दिया था। टीडीपी के प्रस्ताव को कांग्रेस, डीएमके, टीएमसी, एसपी, आरजेडी के अलावा लेफ्ट पार्टियों ने अविश्वास प्रस्ताव को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है। लेकिन सरकार को भरोसा है कि ये प्रस्ताव आसानी से गिर जाएगा।

Share.

About Author

Leave A Reply