होली पर एक्सटेंशन में झेलना पड़ेगा जाम

0

गाजियाबादः एलिवेटेड रोड की पर्यावरण संबंधी एनओसी की रुकावट हटने से यूपी गेट की ओर जाने वाले लोगों को जहां बड़ी राहत मिलेगी। दूसरी ओर यूपी गेट से गाजियाबाद आने और मेरठ की ओर जाने वाले लोगों को जाम का झाम झेलना पड़ सकता है।

राजनगर एक्सटेंशन चौराहे को सिग्नल फ्री करने व वहां यू-टर्न का काम मार्च के आखिर तक टलने से मुसीबत बढ़ेगी। वहीं अगर एलिवेटेड रोड को पर्यावरण संबंधी एनओसी मिल जाती है तो राजनगर एक्सटेंशन चौराहे पर वाहनों का लोड डबल हो जाएगा। चौराहे पर यू-टर्न नहीं शुरू होने से यूपी गेट से एलिवेटेड रोड के जरिए से आने वाले वाहनों को राजनगर एक्सटेंशन चौराहे पर भयंकर जाम झेलना पड़ सकता है। राजनगर एक्सटेंशन चौराहे को सिग्नल फ्री करने और यू-टर्न का निर्माण कार्य 25 फरवरी तक पूरा होना था। लेकिन चौराहे से दो हाइटेंशन लाइन अंडरग्राउंड नहीं होने से यू-टर्न का काम 31 मार्च तक अटक गया है।

लाइनों को अंडरग्राउंड करने लिए पीडब्ल्यूडी ने बिजली विभाग को 18 लाख रुपये दिए हैं। बिजली विभाग की टेंडर प्रक्रिया शुरू करने से एचटी लाइनों को अंडरग्राउंड करने का काम लंबा खिंच सकता है। ऐसे में यू-टर्न से पहले एलिवेटेड रोड शुरू होने से वाहनों का लोड एकाएक राजनगर एक्सटेंशन चौराहे पर बढ़ जाएगा। जो कि जाम का सबब बनेगा। काबिलेगौर बात है कि एनएच-58 स्थित राजनगर एक्सटेंशन चौराहे से रोजाना करीब 1.25 लाख वाहन गुजरते हैं। चौराहे पर दिल्ली और मेरठ दोनों ओर जाने वाले वाहनों का लोड काफी ज्यादा होता है। चौराहे पर सुबह और शाम जाम की स्थिति काफी खराब होती है।

रोड शुरू होने से बढ़ेगा लोड
विभागीय सूत्रों के मुताबिक एलिवेटेड रोड शुरू होने से राजनगर एक्सटेंशन चौराहे पर एकाएक करीब 50 हजार वाहनों का लोड बढ़ जाएगा। पहले मोहननगर, वसुंधरा कनावनी और लालकुआं की ओर से होकर आने वाले वाहन सीधे एलिवेटेड रोड से मेरठ की ओर रुख करेंगे। जिससे जाम की स्थिति और विकराल हो सकती है।

Share.

About Author

Leave A Reply