कनाडा के पीएम की डिनर पार्टी पर बवाल, खालिस्तानी अातंकी को डिनर पर बुलाने का न्योता,खालिस्तानी अातंकी है भारतीय मंत्री पर जानलेवा हमले का दोषी

0

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो इन दिनों भारत दौरे पर हैं. कनाडा के पीएम के लिए आयोजित डिनर पार्टी में भारतीय मंत्री पर जानलेवा हमले के दोषी को आमंत्रित किया गया।.गुरुवार को इस कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली में कनाडा के हाई कमीशन ने कराया, जहां पर सिख अलगाववादी जसपाल अटवाल को बतौर मेहमान न्योता भेजा गया था. बाद में कनाडाई पीएमओ की ओर से पत्रकार को दिए गए जवाब में साफ किया गया कि अटवाल को निमंत्रण रद्द कर दिया गया है.अटवाल ने साल 1986 में भारतीय कैबिनेट मंत्री मलकीत सिंह सिद्धू पर वैंकूअर के द्वीप पर हमला किया था.

न्यूज रिपोर्ट्स के अनुसार, सिख अलगाववादी ने जिस वक्त भारतीय मंत्री पर हमला किया था, तब वह इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन का सदस्य था. ऐसे में कनाडा के साथ ब्रिटेन, अमेरिका और भारत ने उस पर प्रतिबंध लगा दिया था. इतना ही नहीं, 1985 में उस पर ऑटोमोबाइल फर्जीवाड़े के एक मामले का आरोप लगा था, लेकिन वह इसमें दोषी नहीं पाया गया था.

बताया जाता है कि जसपाल अटवाल ने जस्टिन ट्रूडो की पत्नी सोफी ट्रूडो से 20 फरवरी को मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम में मुलाकात की. उसने इस दौरान सोफी के साथ फोटो के लिए पोज भी दिए.

आपको बता दें कि जसपाल अटवाल को 1986 में वैंकूवर द्वीप में पंजाब के मंत्री, मल्कियत सिंह सिद्धू की हत्या के प्रयास में दोषी ठहराया गया था. 1986 की गोलीबारी के समय वह एक सिख अलगाववादी था जो कि खालिस्तान इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन में सक्रिय था. 1987 में अटवाल सहित तीन अन्य को मल्कियत सिंह सिद्धू को मारने की कोशिश में दोषी ठहराया गया था. वर्तमान में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो एक सप्ताह के लंबे दौरे पर भारत में हैं। बताया जाता है कि यहां उन पर कनाडा में सिख अलगाववाद को लेकर भारत की चिंताओं का जवाब देने का दबाव है.

Share.

About Author

Leave A Reply